राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

ऊंदरा यूं काम आया हाथियां रै

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

एक ऊंदरा री नगरी हीं। उणमें घणा सारा ऊंदरा रैवता हा। वठै जगै-जगै उणरा घणा सारा बिल हां। एकर वठा सूं हाथियां रज्ञै झुंड पाणी पीवण सारू निकलियौ। ऊंदरा झुंड नै देखियौं तौ उणमें खलबली माचगी। अबै करै तौ कांई। इण पर सगळा विचारियौं कै हाथियां सूं बात करणी चाहिजे। ऊंदरा रौ सरदार हाथियां कनै गयौ अर हाथ जोड़नै अरज करी कै महाराज, औ ऊंदरां रौ मुलक हैं। अठैं ऊंदरा रां घणा सारा बिल हैं। आप राग अठै पडग्या तो हाहाकार मच जावैला। आप किरपा करनै दूजी जगा पधार जावौ। आपरी घणी किपरा व्हैला। हाथियां नै आ बात जचगी कै बापड़ा यूं ही मारियां जावैला। वै सिरदारा री बात मान नै दूजीं जगै सारू व्हिर व्हिया। इण पर ऊंदरां रो सरदार कह्यौ, महाराज आप घणी किरपा करी हौं। जद कदैई आपनै जरूरत पड़े, म्हानै जरूर याद करजौ। म्हैं जितरी व्है सकैला उतरी आपरी मदद जरूर करूंला।
ऊंदरां रै सरदार री बात सुण हाथियां नै हंसी आयगी। बापड़ा उंदरा म्हारी कांई मदद करैला। व्है हंसता-हंसता ही व्हिर व्हिया अर कह्यौं जरूर याद करांला। घणौं टेम निकलियौ। एक दिन सिकारी रै जाल सूं हार्थी एक मोटा खाड़ा रै मांय पड़ ग्या। खाड़ा में पड़णै सूं हार्थी रौ बल बेकार व्हैगियौ। घणी कोसिस करी पण सगळी बैकार गई। जद उणनै ऊंदरां रे सरदार री कयोड़ी बात याद आई। वौ उणी टैम सरदार नै याद करियौं। याद करता हीं ऊंदरां रौ सिरदार वठै पूंग गयौं। हार्थी री दसा देख वौ कह्यौं, महाराज, म्है आपरा थोड़ा और सार्थी लेय‘र आंऊ। म्हैं सगळा मिल नै आप नै निकाल देवाला। इण बार भी हार्थी हंसिया बिना नी रै सकियां। ऊंदरां रौ सिरदार गयौ अ‘र सगळी परजा नै वठै बुला ली।
सरदार रै आदेस रै मुजब सगळा वठै पहुंचिया अर खाड़ा में धूल भरण लागा। ऊंदरां रै पगा में इतरी धूड़ ही कै अंधेरौ पड़ ग्यौ। हाथी आपरा पगा सूं धूड़ सू खाड़ौ भरण लागौ। ज्यूं-ज्यूं धूड़ पड़ती री खाड़ौ भरतौ गयौ। थोड़ी दैर रै मांय ही खाड़ौ भर ग्यौ। हाथी बारै निकलग्यौ तौ आपरी सूंड में उठायर ऊंदरां रै सरदार ने आपरै गले लगायौ अर उणनै धन्यवाद दियौ। हार्थी नै आ बात समझ आयगी कै दुनिया में कोई छोटो नीं व्हिया करै। मुस्किल री घड़ी मंे कोई भी एक दूजा रौ साथ दे सके। हाथी आपरी नगरी अर ऊंदरां आपरी नगरी सारू व्हिर व्हिया।