राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

प्रताप रा दूहा- मीठा मीर डभाळ

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

हिन्दुआ सुरज महाराणा प्रताप रा दुहा

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

ऐकारू पातल आय , दिल्ली पतशाह दाखवे !!
ले हिन्दुआ सुरज महाराणा प्रताप रा दुहा वूं म्हैं कंठ लगाय , परम वीर ज पातला !!१!!
भलै कैई आया भूपती , अकबर कदमां आय !!
पड़े नह कबहू पाय , प्राण जठा तक पातलो !!२!!
मांनै सगळां महपती , कबूल आधीनता कीन !!
पण न मांने प्रतापसी , प्रणधर  रांण प्रवीन!!३!!
अकबर रौष कर आवियो , करे बहू मन क्रौध !!
नमावूं मेवाड़ी नाथ ने , दिके महा भड़ जौध !!४!!
अपार संग ले आवियो , सज सैना समराथ !!
पड़ीयो हाथां प्रताप रे , मुगल नमायो माथ !!५!!
चैतक थे डाबे चाड़ेया , के मुगलां रा कंध !!
पाळेयो रांण प्रतापसी , सुरज वंश सबंध !!६!!
धमरोळया घोड़ां धके , दे अरियां सीर दौड़ !!
छत्रपती रांण सिसोदियो , मेवाड़ो जग मौड़ !!७!!
रजवट धर रखवाळ हैं , धजबंध वंको धींग !!
जुझयो पण झुकयो नहीं , तेह एसो तरसिंग !!८!!

मीठा मीर डभाल

कानदासजी मेहडु कृत हनुमान वंदना

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

सुरस्वती उजळ अती, वळि उजळी वाण।
करु प्रणाम जुगति कर, बाळाजती बखाण॥1॥

अंश रुद्र अगियारमो, समरथ पुत्र समीर।
नीर निधि पर तीर नट,कुदि गयो क्षण वीर॥ 2 ॥

खावण द्रोणाचळ खमै, समै न धारण शंक।
वाळण सुध सीता वळै, लिवि प्रजाळै लंक॥ 3 ॥

पंचवटी वन पालटी, सीत हरण शोधंत।
अपरम शंके धाहियो, हेत करै हडमंत॥ 4॥

छंद त्रिभंगी ।
मन हेत धरंगी, हरस उमंगी, प्रेम तुरंगी, परसंगी।
सुग्रीव सथंगी, प्रेम पथंगी, शाम शोरंगी, करसंगी।
दसकंध दुरंगी, झुंबै झंगी, भड राखस जड थड भंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 1 ॥
अवधेश उदासी, सीत हरासी, शोक धरासी, सन्यासी।
अणबखत अक्रासी, बोल बंधासी, लंक विळासी, सवळासी।
अंजनी रुद्राशी, कमर कसंसी, साहर त्रासी, तौरंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 2 ॥
करजोड कठाणं, पाव प्रमाणं, दधि प्रमाणं, भरडाणं।
भचकै रथ भाणं, धरा ध्रुजाणं, शेष समाणं साताणं।
गढलंक ग्रहाणं, एक उडाणं, पोच जवाणं, प्रेतंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 3 ॥
हलकार हतूरं, फौज फतूरं, सायर पूरं संपूरं।
कर रुप करुरं,वध वकरुरं, त्रहकै घोरं, रणतूरं।
जोधा सह जुरं, जुध्ध जलुरं, आगैवानं, ओपंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 4 ॥
आसो अलबेली, बाग बणेली, घटा घणेली, गहरेली।
चौकोर भरेली, फूल चमेली, लता सुगंधी, लहरेली।
अंजनि कर एली, सबै सहेली,होम हवेली, होमंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 5॥
नल नील तेडाया, गरव न माया सबै बुलाया, सब आया।
पाषाण मंगाया, पास पठाया, सब बंदर लारे लाया।
पर मारग पाया, राम रिझाया, हनुए धाया, हेतंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 6॥
लखणेश लडातं, सैन धडातं, मुरछा घातं, मधरातं।
साजा घडी सातं, वैद वदातं, प्राण छंडातं, परभातं।
जोधा सम जातं, जोर न मातं, ले हाथं बीडो लंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 7॥
हडमत हुंकारं, अनड अपारं, भुजबळ डारं, भभकारं।
कर रुप कराळं, विध विकराळं, द्रोण उठारं, निरधारं।
अमरं लीलारं, भार अढारं, लखण उगारं, दधि लंघी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी॥ 8 ॥
सिंदूर सखंडं, भळळ भखंडं, तेल प्रचंडं, अतडंडं।
किय हार हसंडं, अनड अखंडं, भारथ डंडं, भुडंडं।
चारण कुळ चंडं, वैरि विहंडं , प्रणवै कानड कवि पंगी।
रामं अनुरंगी, सीत सुधंगी, बिरद उमंगी, बजरंगी ॥ 9॥

Narpatdan Charan Kaviraj:
डिंगळ री डणकार से सादर त्रिभंगी छंद ।

डिंगळ री डणकार- श्री कैलाशदानजी चारण झांकळी- बाड़मेर.

Rao GumanSingh Rao Gumansingh