राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

रेत रौ घर दे भलांई छाज दे - --- नवल जोशी

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

रेत रौ घर दे भलांई छाज दे
नाज़ दे मिनखापणौ दे लाज दे

छापरौ फाटै भली कर छौ फटै
मारुवां नै मेह दे घण गाज दे

कैद में पंछी हुयौ अधगावळौ
दे सकै तो आभ दे परवाज़ दे

भोग भोग्या ई सरै नरदेह रा
तूं तँदूरै तांण दे सुर साज दे

मुलक री सगळी जबानां जाम क्यूं
गूंगलां नै शब्द दे आवाज दे

जूण किम जमगी हिमाळै बर्फ ज्यूं
अंतसां में ओज अगनी दाझ दे

राज में मिनखापणौ लवलेस नीं
दे कदै तो मिनख नै ई राज दे

आँगळी रौ अेक टपकारौ दियौ
औरुं भुगत्या, साँडियां नै ताज दे

आपणी जूणी अटाळै सारखी
धार बँगला थूं म्हनै गैराज दे

बेङियां बेजा जङी रे साँवरा
देय झटकौ साँतरौ पण आज दे
            ⊙⊙⊙⊙
           
 --- नवल जोशी