राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

अम्बा-अरदास

Rao GumanSingh Rao Gumansingh


चढ़ो म्रगप महा माया, चामुण्ड़ा चिरताळी।
मद री छांका छक कर माता, धार त्रिसूल धजाली॥
चण्ड मुण्ड भड़ राकस, चंडा, मार दिया मतवाली।
आज सैकड़ा राकसड़ा मिल, मचा रिया पैमाली॥
समंद कोट में रावण समरथ, वर पाकर मुंडमाली।
न्याय नीत नै लोप कोप कर, चाली चाल कुचाली॥
फलचर समंद फांद हिक पळ में, लंका कोट प्रजाली।
दस-कंधर रा दस कंध छाग्यां, संत साध प्रतपाली॥
जद जद हुई धरम घर हाणी, धारी खड़ग भुजाली।
रजवट वट प्रतपालक देवी, जय अम्बे जय काली॥

4 comments:

  1. बेनामी ने कहा…

    धनजी देवासी सरनाउ
    चढ़ो म्रगप महा माया, चामुण्ड़ा चिरताळी।
    मद री छांका छक कर माता, धार त्रिसूल धजाली॥
    jay mata ji
    sudhavali mai..
    dewasi samaj jalore

  2. MADAN DEWASI SARNAU ने कहा…

    JAY SUDHAMATAJI
    MADAN DEWASI SARNAU
    SANCHORE ( JALORE )
    DEWASI ( BOSTAR )
    KULDEVI

  3. धनजी देवासी सरनाउ ने कहा…

    धनजी देवासी सरनाउ
    चढ़ो म्रगप महा माया, चामुण्ड़ा चिरताळी।
    मद री छांका छक कर माता, धार त्रिसूल धजाली॥

  4. Chhagan itada ने कहा…

    Mahara hivde su aapane ghana ghana ram ram navratri ra chhagan choudhary itada wala