राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

कवि 'गंग तो एक गोविंद भजै

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

मृगनैनी की पीठ पै बेनी लसै, सुख साज सनेह समोइ रही।
सुचि चीकनी चारु चुभी चित मैं, भरि भौन भरी खुसबोई रही॥
कवि 'गंग जू या उपमा जो कियो, लखि सूरति या स्रुति गोइ रही।
मनो कंचन के कदली दल पै, अति साँवरी साँपिन सोइ रही॥

करि कै जु सिंगार अटारी चढी, मनि लालन सों हियरा लहक्यो।
सब अंग सुबास सुगंध लगाइ कै, बास चँ दिसि को महक्यो॥
कर तें इक कंकन छूटि परयो, सिढियाँ सिढियाँ सिढियाँ बहक्यो।
कवि 'गंग भनै इक शब्द भयो, ठननं ठननं ठननं ठहक्यो॥

लहसुन गाँठ कपूर के नीर में, बार पचासक धोइ मँगाई।
केसर के पुट दै दै कै फेरि, सुचंदन बृच्छ की छाँह सुखाई॥
मोगरे माहिं लपेटि धरी 'गंग बास सुबास न आव न आई।
ऐसेहि नीच को ऊँच की संगति, कोटि करौ पै कुटेव न जाई॥
रती बिन राज, रती बिन पाट, रती बिन छत्र नहीं इक टीको।

रती बिन साधु, रती बिन संत, रती बिन जोग न होय जती को॥
रती बिन मात, रती बिन तात, रती बिन मानस लागत फीको।
'गंग कहै सुन साह अकब्बर, एक रती बिन पाव रती को॥
एक को छोड बिजा को भजै, रसना जु कटौ उस लब्बर की।

अब तौ गुनियाँ दुनियाँ को भजै, सिर बाँधत पोट अटब्बर की॥
कवि 'गंग तो एक गोविंद भजै, कुछ संक न मानत जब्बर की।
जिनको हरि की परतीत नहीं, सो करौ मिल आस अकब्बर की॥


(बस इस बात से जहांगीर ने कविराज को मरवा दिया और उसका समस्त साहित्य भी नष्ट करवा दिया. मुश्किल से चार पांच कविताएं ही मोजूद है)

5 comments:

  1. બધિર અમદાવાદી ने कहा…

    bahot achchha kaam kiyaa ye kavi Gang ka pad yaha likh kar. Aise kuchh aur pad ho to uski link dijiye ga please....
    hamara pata hai...
    badhir.amdavadi@gmail.com

  2. બધિર અમદાવાદી ने कहा…

    Kavi Gang ka pad yahan par rakh ke aapne bahot achchha kam kiya hai. aise aur bhi pad ho to hame uski link dijiye ga please...
    My email ID
    badhir.amdavadi@gmail.com

  3. siddhloka ने कहा…

    aur bhi gang ka sahitya uplabth hai
    aapke kaam ke jitne ssarahana ke jaiutni kam hai

    jai marwad
    jai mayad

    manoj bikaner

    09799329101

  4. बेनामी ने कहा…

    vahsa vah very nice

  5. बेनामी ने कहा…

    Plz.gangbhat ke dohe or sunaye