राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

केसरिया बालम

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

केसरीया बालम कहूं, किणनें मन री पीर।
बांस विरह रो रुंखडौ, निकळ्यौ छाती चीर॥
केसरीया बालम कहूं, गाढा माढां राग।
आवो घर अलबेलडा, उपजावण अनुराग॥
केसरीया बालम कहूं,किम विसरीया कंत।
निसरिया आसूं नयण, (जिण)हरिया वन दरसंत॥ केसरीया बालम कहूं, जळूं  विरह री झाळ ।
आव अषाढै मेह ज्यूं,(तौ) भींजूं  इण बरसाळ॥
केसरीया बालम कहूं,नेह निभाज्यौ नाह।
आय मिळौ म्हानै अठै, गाढ भरण गळबांह॥

नरपतदान आवडदान आशिया"वैतालिक " कृत