राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

सखी आव अठै तरसाव

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

सखी आव अठै तरसाव मती दरसाव दिखा मुख मंडल रो।
जिण सू तनरो सब ताप मिटै
दुःख द्वंद  हटै मन रा मलरो।
तव आनन सूं मन कानन में
चपला रो प्रकाश प्रति पलरो।
मन भावण  रुप रिझावण कामण छोड सुभाव अबै छलरो॥

सवैया दुर्मिल।

नरपतदान आवडदान आशिया वैतालिक कृत।