राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

संत फकीर मलंग शिवागिरि

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

मस्त जटी मन बैठ मढी मह बांसुरि खूब बजाय रह्यो है।
हाथ कडा पहने नित धूरजटी शिव आप रिझाय रह्यौ है।
साधक औ सुर रो शिव सेवक तानन सूं कछू गाय रह्यौ है।
आतम ने कर कृष्ण मयी परमातम राधा रिझाय रह्यौ है॥
वैतालिक
सुंदर मोहनि मूरत बांसुरि, फेर लियां अधरां सुखकारी।
मस्त बजाय रह्यौ जिम मोहन, औ शिव है वृषभानु दुलारी।
आप बिना नह आश्रय है रख लाज हमार सुणौ जटधारी।
संत फकीर मलंग शिवागिरि पांव पडूं सुण हे अलगारी॥
वैतालिक
तान घणौ गुलतान बणै मधुरी यह बेणू बजावत है रे।
कृष्ण बणे खुद शंकर- मीराज जोगण को चित्त ध्यावत है रे।
नाचत है निज ही मन कुंजन औ संग रास रचावत है रे।
बात अनूपम आप तणी मन देख  थनें हरसावत है रे॥
वैतालिक