राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

त्रीकम राखी टेक , मन मांगी घोड़ी मिळी !!

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

जाडीं गांव तालुका धानेरा रा ताजु मीर आछा कवि अर भक्त हा जिणांने एक दिन आय एक आदमी कह्यो कि ताजु मीर  थे भाटीब सूं जाड़ी पैदल आवो तो मालिक थांने कांई घोड़ी नी देवेला जद ताजुजी कह्यो कि म्हें कदै मालिक कनें मांगी नी तो कद देवतो !
आज थें कह दियो तो काले मांगूला हरि कने घोड़ी ,मालिक ने घोड़ी मांगतां थकां गीत में अरदास करी जिका आपरी समक्ष पेश कर रह्यो हूं !
अवल्ल में याद करूं ईल्लाही आपने ,
ईल्ललाह नांमरी लखुं अरजी !!
मुहम्मद मुस्तफा आपरी मदद सूं ,
महर कर  रहम री करो मरजी !!१
सांई अरजी विचारो दिल वसे,
थरू सम्पत मोहे घरे थोड़ी !!
गफूरा रहीम गुण आपरा गावंतां,
घाटोड़ी समापो ऐक घोड़ी.!!२!!
वेहे रैवाळ थोड़ा घणी वरीखे ,
हेफरड़ां करंतां वाग हाथां !!
ऐक पल फरूंको व्हे घर आवतां ,
जेज लागे नहीं गांम जातां !!३!!
सुरंगावान समझे बोहो सुलखणी ,
लड़ंग ठावका ठांण लावें!!
पावरो खाय चरवा जाय प्रभाते ,
आथम्या भांण री घरे आवें !!४!!
वके धनराज मुंगा घण वछेरा ,
नगद ध्रब हाथ में वधे नांणां !!
रकम कळदार आवे घर रूपिया ,
लाभ जो होवे तो कटे लेणां !!५!!
सच्ची पुकार मालिक तुंही  सांभळे ,
ओळभो आपने लखुं आछो !!
वार जो करो तो पाळ मोरा वचन ,
पत्र अरजी तणो मेल पाछो !!६!!
वडाई आपरी जगत सोहे वखांणे ,
कैक संतां तणा काम कीधा !!
बंध छोड़ाविया असंखां बापजी ,
दुखियां घणांने सुख दीधा !!७ !!
खरो विश्वास मों तुमारो खुदावीन ,
 दुथियां दान तूं समप्प दौला !!
अभ्यागत आपरो मीर ताजु आखे ,
मन तणी उम्मीद पूर मौला !!८!!
झाड़ और बेट करे तेरी जिकर ,
धरणी अंकाश दृढ एक धारा !!
जीव जंतु पंछी नाम तोरा जपे ,
तुंही तुंही भणे नवलाख तारा !!९!!
...........................................,
मच्छीयां भजे जल बीच माळा !!
.............................................,
पल पल ऐतां तणी करे पाळा !!१०!!
वळे लेखण होय वनराय की ,
सात समुद्रां तणी होय स्याही !!
अल्लापुर लखूं ऐहड़ा कथन तो ,
नाम रो गुण तणो पार नांहीं !!११!!
दुजे तीजे दिन ऐक गांव रे ठाकुरसा घरे आय ताजु मीर ने घोड़ी दिनी पण उणमें ऐप कुलखण हो जिका ताजु मीर सोरठे में कह्यो ,
त्रीकम राखी टेक , मन मांगी घोड़ी मिळी !!
(पण) उणमें कुलखण ऐक , जाती वाजे जाड़ीये !!१!!
टंकन मीठा मीर डभाल