राजिया रे दूहा सारु http://rajiaduha.blogspot.com क्लिक करावें रज़वाड़ी टेम री ठावकी ख्यातां रो ब्लॉग आपरै सांमै थोड़ाक टेम मा आरीयो है वाट जोवताईज रौ।

शंकर शीश शशि अत चमंकत,

Rao GumanSingh Rao Gumansingh

शंकर शीश शशि अत चमंकत, सती उमिया विराजत संग, नीलकंठ असवारी नंदी, जटा मुकुट में खळके गंग, शेषनाग लिपटायो शंकर, भळ हळ भळके गळे भुजंग, अमल भांग आरोगे अबधू , भस्मी भोळो लगावत अंग।। ।।शंभू कजोई।।